Tuesday, February 10, 2009

तुम न आओगे तो..........


तुम हो रूठे हुए या शरमाये ,
फ़िर दुबारा इधर नहीं आए ,
जब से तुम पर क़लम उठायी है ,
बैठे हो क्या क़सम कोई खाए ?
ऐसा क्या कह दिया भला मैंने ,
चंद अल्फाज़ बस तारीफ़ में ही बोले थे ,
ज़िन्दगी बेरंग थी,ये मेरी,मेरी तरह से ही,
तेरी आमद ने ही कुछ रंग इसमें घोले थे ,
तुम न आओगे तो फ़िर कौन यहाँ लिक्खेगा,
और भला कौन मुहब्बत के तराने गाये ।
भा गयी थी तेरी फितरत वो मुस्कुराने की ,
बाद मुद्दत के क़लम अपनी मुस्कुराई थी ,
तुमसे पहले तो ज़िन्दगी थी, एक स्यापा सी,
तुमसे पहले तो इक दुश्मन सी ये खुदायी थी ,
तुम तुमन आओगे तो फ़िर मायूसियां वही होंगी ,
और तेरा गम ये , न इस बार मुझे डस जाए ।
तुमको मंज़ूर नहीं ग़र मेरा यूँ लिखना तुम पर ,
ठीक है ये ही सही , अब ये भी कर ही जायेंगे ,
एक इकलौती ,अकेली खुशी ने लिखवाया ,
गम तो अनगिन हैं भला क्यूँ नहीं लिखवायेंगे ,
तुम न आओगे तो फ़िर वो ही लिखा जाएगा ,
आँख नम ही न रहे जिससे ,छलक ही जाए ।
तुम न आओगे तो दीवाना कहाँ जायेगा ,
तुम से होकर ही निकलती है हरेक राह मेरी ,
तुम न आओगे तो न चैन से रह पाओगे ,
तुमको ख़्वाबों में जगायेगी हरेक आह मेरी ,
तुम न आओगे तो फ़िर कैसे जिया जायेगा ,
तुम ही बतलाओ कोई कैसे ख़ुद को समझाए ।
तुम न आओगे तो बेमानी है सबका आना ,
तुम न आओगे तो बेकार हैं सारी बातें ,
तुम न आओगे तो कोई दिन न सुनहरा होगा ,
और मनहूस लगेंगी ये चांदनी रातें ,
तुम न आओगे तो 'संजीव ' मर ही जायेगा ,
बिन तुम्हारे यहाँ जीना है अब किसे भाये ।
तुम हो रूठे हुए या शरमाये ?

5 comments:

दिगम्बर नासवा said...

तुम न आओगे तो दीवाना कहाँ जायेगा .........

बहुत खूब, बहुत अनूठे शब्दों में बयान किया है ज़ज्बातों को

Anonymous said...

wah wah


Please! Copy these lines 20 time

Anonymous said...

Wah-wah

Please! Copy these lines 20 time

gyanendra

Hindustan, Agra

अमिताभ श्रीवास्तव said...

bahut sundar, achcha likhte ho bhai..
meri ek kavita thi chhoti si..blog par hi jisme likha thaa
har chij lout kar aati he agar
sirf intjaar kiya jaaye...

hope d best..

Shikha (MahiYa) said...

Waah... Bahut bahut khoob...
I am happy to visit this place, its full of so many jewels in form of your writings..

Post a Comment