Tuesday, March 10, 2009

होली है।

रंगों की एक गठरी ,किसने यहाँ खोली है ,
लगता है इस बरस भी, फ़िर आ गयी होली है ।


हर शख्स खिला सा है , हर ज़र्रा है महका सा ,
हर ग़म जला दिया है , हर फ़िक्र ज्यों धो ली है ।

होली नहीं ये तेरी , न रंग ये तेरे हैं ।
कानों में मेरे किसने , फ़िर बात ये बोली है ।

सबकी तरह से मैं भी, क्यों आज ख़ुश नहीं हूँ ,
क्यूँ ख्वामख्वाह मैंने, फ़िर आँख भिगो ली है ।

क्यूँ सोग किए जाता ,हूँ , तक़दीर का मैं अपनी ,
यहाँ बदकिस्मती भी क़िस्मत, की एक ठिठोली है ।

हमने तो है ये पाया , ये जिंदगी सिरिफ़ इक ,
उम्मीद - नाउमीदी, की आँख मिचोली है ।

इस बरस नयी पुडिया ,मजबूरियों के रंग की ,
लोहू में ख्वाहिशों के , हालात ने घोली है ।

मातम सा है इक अन्दर , कुछ हसरतें गयीं मर ,
अरमां सिसक रहे हैं , हर आरज़ू रो ली है ।

कोई संदेस घर से, आया नहीं होली पर ,
लगता है दिल में सबने, इक गैरियत बो ली है ।

यूं मुंह सा चिढाता है, हर इक त्यौहार आकर ,
ज्यूँ ग़म की घुड़चढी है , आशाओं की डोली है ।


'संजीव ' आज़माइश , है ज़ब्त की ये तेरे ,
थी गयी सता, दिवाली , अब आयी ये होली है ।

परिशिष्ट :

पिचकारी दूरियों की , और रंग है विरह का ,
गुलाल सब्र का है , कुछ ऎसी ये होली है ।


रंगीन किया जाना, बेरंग को , है मुमकिन ,
बदरंग जिंदगी में, क्यूँ आए ये होली है ।

मैं राह देखता हूँ , बस ऎसी इक होली की ,
जब झूमकर नशे में ,कह पाऊँ कि, "होली है " ।


माहौल में खुशी के , ये क्या मैं कह गया सब ,
फ़िर भी मुआफ करना , आख़िर को तो होली है ।

नहीं जानता "बहर" क्या ,कहते हैं "रुक्न" किसको ,
इक तड़प थी इस दिल में , लफ़्जों में पिरो ली है ।



6 comments:

"अर्श" said...

आपको तथा आपके पुरे परिवार को मेरे तरफ से होली की ढेरो बधईयाँ और शुभकामनाएं.... गुजिया और जलेबी के साथ...बधाई

अर्श

दिगम्बर नासवा said...

संजीव जी
सुन्दर रचना है, हर शेर लाजवाब.
आखरी शेर में इस की जान है,
नहीं जानता बहार क्या है, रुक्न क्या है..........

आपको और आपके परिवार को होली मुबारक

KK Yadav said...

Bahut sundar likha hai...niymit likhen to aur khushi hogi.
_________________________________________
गणेश शंकर ‘विद्यार्थी‘ की पुण्य तिथि पर मेरा आलेख ''शब्द सृजन की ओर'' पर पढें - गणेश शंकर ‘विद्यार्थी’ का अद्भुत ‘प्रताप’ , और अपनी राय से अवगत कराएँ !!

Shikha (MahiYa) said...

Bahut achha likha hai aapne..

प्रसन्न वदन चतुर्वेदी said...

सुन्दर रचना....बहुत बहुत बधाई....

tbsingh said...

bahut sunder prastuti.

Post a Comment