Monday, January 20, 2014

कनक छरी सी लागो............


धवल दन्त पंक्ति शोभित है, रक्तिम होठों बीच,
ये निश्छल मुस्कान मिटाती, है मन की सब कीच,

चुनर बैंगनी, नीला कुरता, केश बायें कंधे पर,
फ़िर-फ़िर ये तस्वीर मुझे, ले आये तुम तक खींच,

लम्बी-पतली-सुतवां काया , कनक छरी सी लागो,
इक कल्पवृक्ष तुम, जिसे गया हो, अमृत द्वारा सींच,

तुम्हें देख जग सुन्दर लगता, कहीं न कोई द्वैत,
भेद-भाव मिट चुके सभी अब, कोई ऊंच न नीच,

कुछ ऐसा मायावी है, आकर्षण पाया तुमने,
“संजीव” तुम्हें पहचाने लाखों में भी आँखें मींच ......संजीव मिश्रा

0 comments:

Post a Comment