Tuesday, January 6, 2009

तुम्हीं आओ के तुम ही जानो ये जादू चलाना.....१

चाहता हूँ मैं भी अब कुछ मुस्कुराना ,
तुम्हीं आओ के तुम ही जानो ये जादू चलाना ।


तुम्हारे रूप में सिद्धी , हैं तंतर सब अदाओं में ,
बखूबी जानो तुम मृत भावनाओं को जिलाना ।


तुम्हारे पास सब टोने ,तुम्हारे पास सब मंतर ,
तुम्हीं जानो के कैसे रोते को रोना भुलाना ।


लबों को करके तिरछा वो तुम्हारा मुंह बनाना ,
मुझे है याद पल भर में मेरा गुस्सा भुलाना ।


मुझे है याद वो तेरा झटकना गीले बालों को ,
भिगोने को मुझे पूरा वो केशों को झुलाना ।


ये जो कुछ पक्तियां ‘संजीव’ लिख बैठा हो जज्बाती ,
न देखो इनपे तुम हंसना , न तुम गुस्सा दिलाना ।


न मैं ‘ग़ालिब’ , न मैं ‘साहिर’ , न ही ‘दुष्यंत’ हूँ मैं ,
बड़ी मुश्किल से सीखा है ये तुक से तुक मिलाना ।



4 comments:

MUFLIS said...

तुम्हारे रूप में सिद्धि है,
है तंतर सब अदाओं में....
वाह ! याद नही पड़ता आज से पहले किसी ग़ज़ल में
मैंने ऐसी खूबसूरत बानगी देखी हो
लेकिन सच मुच बहोत अच्छा लग रहा है सब पढ़ते हुए
बधाई !!
मुफलिस .

Amit said...

bahut khub..accha likha hai aapne.....

शाश्‍वत शेखर said...

बहुत बढ़िया,,,दिल खुश हो गया...आखिरी शेर, शेर नही सवा शेर था|

shelley said...

bahut badhiya.tumhare rup me siddhi hai, hai tantar sab adao me......bahut badhiya ekdam alg or naya.....

Post a Comment