Saturday, December 29, 2007

व्यथा

किस से कहूं मन की व्यथा,

दास्ताँ ग़मों की, दर्द की कथा।



हँसती है मुझ पर

यूँ जिंदगी मेरी,

जैसे कुरूप पर , कोई परी,

कैसे जियें हम,कोई दे बता।


साथ हर कदम पे,


है दुःख दर्द ग़म,

न मंज़िल कोई जिसकी ,

वो राह हम,

हमेशा ही किस्मत ने दी है दगा।


फूंकूं जहाँ को, या खुद को जला दूं ,


ये सारी खुदाई अतल में मिला दूं

क्यूं दुश्मन हमारा बना है खुदा।

1 comments:

vasai local said...

vah bahuth acha hei!

Post a Comment